Category Archives: हिंदी Hindi quotes

अनुभव 

जैसे जैसे मेरी उम्र में वृद्धि होती गई, मुझे समझ आती गई कि अगर *मैं 3 हजार की घड़ी पहनू या 30 हजार की* दोनों *समय एक जैसा ही बताएंगी..!*
मेरे पास *3 हजार का बैग हो या 30 हजार का*, इसके *अंदर के सामान* में कोई परिवर्तन नहीं होंगा। 
मैं *200 गज के मकान में रहूं या 2000 गज के* मकान में, *तन्हाई का एहसास* एक जैसा ही होगा।
अंत में मुझे यह भी पता चला कि यदि मैं *बिजनेस क्लास में यात्रा करुं या इकॉनमी क्लास* में, अपनी *मंजिल पर उसी नियत समय पर ही पहुंचूंगा।
इसलिए _ *अपनी औलाद को अमीर होने के लिए प्रोत्साहित मत करो बल्कि उन्हें यह सिखाओ कि वे खुश कैसे रह सकते हैं और जब बड़े हों तो चीजों के महत्व को देखें उसकी कीमत नहीं* 
*दिल को दुनिया से न लगाएं क्योंकि वह नश्वर है, बल्कि आत्मा को जगाए रखो क्योंकि वही बाकी रहने वाली है…*
फ्रांस के एक वाणिज्य मंत्री का कहना था

*ब्रांडेड चीजें व्यापारिक दुनिया का सबसे बड़ा झूठ होती हैं, जिनका असल उद्देश्य तो अमीरों से पैसा निकालना होता है लेकिन गरीब इससे बहुत ज्यादा प्रभावित होते है।*
क्या यह आवश्यक है कि मैं Iphone लेकर चलूं फिरू ताकि लोग मुझे *बुद्धिमान और समझदार मानें?*
क्या यह आवश्यक है कि मैं रोजाना *Mac या Kfc में खाऊं ताकि लोग यह न समझें कि मैं कंजूस हूं?*
क्या यह आवश्यक है कि मैं प्रतिदिन दोस्तों के साथ *उठक बैठक Downtown Cafe पर जाकर लगाया करुं* ताकि लोग यह समझें कि *मैं एक रईस परिवार से हूं?*
क्या यह आवश्यक है कि मैं *Gucci, Lacoste, Adidas या Nike के कपड़े पहनूं ताकि जेंटलमैन कहलाया जाऊं?*
क्या यह आवश्यक है कि मैं अपनी हर बात में दो चार *अंग्रेजी शब्द शामिल करुं ताकि सभ्य कहलाऊं?*
क्या यह आवश्यक है कि मैं *Adele या Rihanna को सुनूं ताकि साबित कर सकूं कि मैं विकसित हो चुका हूं?*
_*नहीं बिल्कुल नही*_
मेरे कपड़े तो *आम दुकानों* से खरीदे हुए होते हैं,

दोस्तों के साथ किसी *ढाबे* पर भी बैठ जाता हूं,

भूख लगे तो किसी *ठेले* से लेकर खाने में खुशी होती है।
अपनी सीधी सादी भाषा में बोलता हूं। चाहूं तो वह सब कर सकता हूं जो ऊपर लिखा है…
_*लेकिन …*_

मैंने ऐसे लोग भी देखे हैं जो *मेरी Adidas से खरीदी गई एक कमीज की कीमत में पूरे सप्ताह भर का राशन ले सकते हैं।*
मैंने ऐसे परिवार भी देखे हैं जो मेरे *एक Mac बर्गर की कीमत में सारे घर का खाना बना सकते हैं।*
बस मैंने यहां यह रहस्य पाया है कि *पैसा ही सब कुछ नहीं है* जो लोग किसी की बाहरी हालत से उसकी कीमत लगाते हैं, वह तुरंत अपना इलाज करवाएं।

*मानव मूल की असली कीमत उसकी नैतिकता, व्यवहार, मेलजोल का तरीका, सुल्ह-रहमी, सहानुभूति और भाईचारा है, ना कि उसकी मौजूदा शक्ल और सूरत…*
🙏🏻*फिर से सोचिए*🙏🏻

🙏🏻💐🙏🏻🌹😊

Advertisements