All posts by Eklavya Singh

Eklavya Singh. Electronics and communication engineer (2016 ) Chairman I belongs from Begusarai.. Presently i am in Punjab. i am not special but unique in nature.. i love my cute,family,my yash and friends that always want to be with me Meri zindgi ka mksd bs itna hi haii.. jis ma ko beta nae uska beta bn jau..jis bhai ko 1 bhai ki jaroort ho uska bhai bn jau,,jis bhn ka bhai nae uska bhai bn jau,, aur aisa kuchh kr du apni zindgi ke sfr me... mai to hste hste duniya se chla jau,, aur ye duniya ek aur mere jaise bete ke liye bhgwan se pukare... Aapke liye mera ek choota sa msg jo mere quotes ko padh rhe... Duniya me to arab se b jyada log apni zindgi bitate.. aur ek kutte b apni zindgi kat lete... aap insan ho ..kuchh aisa khud ko bnao ki aapka pahchan ho izzt ho.. bhgwan ne aap pe trust kr ke aapko apne family me bheja hai .. unki jimmedari ko smho aur apne family ko is mukam tk pahucha do ki aane wala generation aap pe grv kre.. love your life other wise leave it.. bht sare log hain yaha.. apne aap ko aap proof kro you are a better Dad,,better son better daughter,better wife/husband.. aur khushiya batne se bdhti h .. jb zindgi jeena hi h to khushi se jio .. relations sbi se achhe rkho ..compermise,, accept your fault... agr dost bnkr aap zindgi me khush rh skte ho to zindgi me dusmn bnane ki kya jaroort h .. smile emoticon aur zindgi me jitne b tqleef ho maa se bolo ... aur Apne aap se.. dusre log koi sath nae denge aur mzak urayenge .. smile emoticon ok all the best wish you a happy life.. smile emoticon agr aapko zindgi me 1 platform ki jaroort hai to sure contact me.. jaha se aap ek nayi aur achhi zindgi ki suruaat kr skte ho .. smile emoticon i have an information that can change your life .. smile emoticon contact me with messege or email eksingh1@gmail.com

प्रेरक प्रसंग

*प्रेरक प्रसंग*
(बाल्मीकीय रामायण से)
एकबार अपने बडे बड़े योद्धाओँ को युद्ध मे मरते देखकर रावण स्वयं ही युध्द के लिये रणक्षेत्र में आ गया।श्री राम ने सोचा कि अभी तो अनेकों योध्दा बचे हैं।रावण पहले ही युध्द के लिये आ गया।लेकिन आ ही गया है तो मुझे युध्द के लिये जाना ही पड़ेगा ।इस तरह राम और रावण का युद्ध प्रारंभ हुआ।राम ने अपने वाणो प्रहार से रावण के रथ कों नष्ट कर दिया। उसके अस्त्र शस्त्रों को काट दिया।अब रावण को लगा कि शायद राम का अगला वाण उसके सीने को चीर देगा।
तभी उसने अपनी आंखें बंद कर लीं। थोड़ी देर बाद आंखें खोलकर देखा तो श्रीराम उसके सामने खड़े हुये हैं। श्रीराम कहने लगे कि हे रावण! जाओ फिर से अस्त्र शस्त्रों से सुसज्जित होकर रथ पर सवार होकर आओ। मैं निहत्थों पर वार नहीं करता।
रावण जीवनदान लेकर जब महल में वापस गया तो छत पर टहलते हुए उसने मंदोदरी से पूछा कि मंदोदरी! लोग कहते हैं कि भाई हो तो राम जैसा?
मंदोदरी ने कहा कि हां भाई हो तो राम जैसा हो।
फिर पूछा कि लोग कहते हैं कि पुत्र हो तो राम जैसा?
मंदोदरी ने कहा हां लोग यही कहते हैं कि पुत्र हो तो राम जैसा।
फिर पूछा लोग यह भी कहते हैं कि मित्र हो तो राम जैसा?
मंदोदरी ने कहा हां महाराज लोग यह भी कहते हैं कि मित्र हो तो राम जैसा ही हो।
रावण ने मंदोदरी से कहा कि मंदोदरी आज मैं भी एक बात कहता हूँ कि शत्रु हो तो वो भी राम जैसा हो।
मैं राम जैसे शत्रु को पाकर आज गौरवान्वित महसूस कर रहा हूँ।

Advertisements