फ्लैट पैनल डिस्प्ले मॉनिटर

LCD भी मॉनिटर का ही एक प्रकार है, लेकिन ये साधारण मॉनिटर से बहुत पतले होते है, साथ ही ये उनसे कम बिजली पर काम करते है और इनमे मॉनिटर से ज्यादा अच्छी स्क्रीन दिखाने की क्षमता होती है. पतले और हलके होने की वजह से ये कम जगह घेरते है और आप इन्हें अपने घर या ऑफिस की दिवार पर भी आसानी से लगवा सकते हो. LCD में दो शीशे की परत होती है जो एक दुसरे से भिन्न होती है लेकिन एक दुसरे के साथ चिपकी होती है. इन्ही में से एक पर Liquid Crystal की परत होती है, और जब इनमे बिजली आती है तो यही Liquid Crystal रोशनी को रोकते और छोड़ते है ताकि इमेज / स्क्रीन दिख सके. इन Crystal के पास अपनी खुद की कोई रोशनी नही होती है. LCD अपनी बेकलाइट रोशनी के लिए फ्लौरेस्सेंट ( Fluorescent ) लैंप का इस्तेमाल करती है. कई LCD ड्यूल स्कैनिंग होती है, जिसका मतलब है कि ये अपनी स्क्रीन को दो बार स्कैन कर सकते है

अनुकूल तर्क:

  1. बहुत छोटा और हल्का
  2. कम बिजली की खपत
  3. बैकलाईट प्रौद्योगिकी के आधार पर झिलमिलाहट कम या बिलकुल नहीं होती है।
  4. स्क्रीन जलने से प्रभावित नहीं होता है।
  5. मरम्मत/सेवा के दौरान कोई उच्च वोल्टेज या अन्य खतरे नहीं होते हैं।
  6. सीआरटी से अधिक विश्वसनीय
  7. किसी भी आकार और आकृति में बनाया जा सकता है।
  8. कोई सैद्धांतिक रिजोल्यूशन सीमा नहीं


प्रतिकूल तर्क:

  1. देखने का सीमित कोण, रंग, सेचुरेशन, कंट्रास्ट तथा चमक को बदल सकता है; मुद्रा में बदलाव के द्वारा यह देखने के इच्छित कोण के भीतर भी ऐसा कर सकता है।
  2. कुछ मॉनिटर में ब्लीडिंग तथा असमान बैकलाइटिंग चमक में विरूपण पैदा कर सकती है, विशेष रूप से किनारों की ओर।
  3. धीमा प्रतिक्रिया समय जो गडबडियां पैदा करता है। हालांकि, यह मुख्य रूप से निष्क्रिय-मैट्रिक्स डिस्प्लेज की ही एक समस्या है। वर्तमान पीढ़ी के सक्रिय-मैट्रिक्स एलसीडी में टीएफटी पैनल के लिए प्रतिक्रिया समय 6 ms तथा एस-आईपीएस के लिए 8 ms होता है।
  4. केवल एक स्थानीय रिजोल्यूशन होता है। रिजोल्यूशन प्रदर्शित करने के लिए वीडियो स्केलर, अवधारणात्मक गुणवत्ता में कमी, या 1:1 pixel mapping पर डिस्प्ले की आवश्यकता होती है, जिनमे छवियों का आकार बहुत बड़ा होता है या वे पूरे स्क्रीन में समा नहीं पाती हैं।
  5. निश्चित बिट गहराई; कई सस्ते एलसीडी केवल 2,62,000 रंगों को ही को प्रदर्शित कर सकते हैं। 8-बिट एस-आईपीएस पैनल 16 मिलियन रंगों को प्रदर्शित कर सकते हैं और उनमे काले का स्तर काफी बेहतर होता है, लेकिन वे महंगे होते हैं और उनका प्रतिक्रिया समय भी काफी धीमा होता है।
  6. इनपुट अंतराल
  7. उत्पादन या उपयोग के दौरान मृत पिक्सल उत्पन्न हो सकते हैं।
  8. लगातार चालू की स्थिति में, थर्मलीकरण हो सकता है; अर्थात जब स्क्रीन का कुछ हिस्सा अति गर्म हो जाने के कारण बाकी स्क्रीन की तुलना में बेरंगा दिखाई देता है।
  9. सभी एलसीडी डिस्प्लेज को बैकलाईट के आसान प्रतिस्थापन के लिए डिज़ाइन नहीं किया जाता है
  10. प्रकाश बंदूक/कलम के साथ प्रयोग नहीं किया जा सकता
Advertisements

Give A message for us

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s